Tag Archives: hindi romantic poems

कोई क्या जाने..कि क्या बीती..

कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

न दिल ये मेरा कुछ
कभी कह पाया
दिल की सब बातें
दिल में बीती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

वो दिल जो लगाते
तो सुन पाते
दिल की हर धड़कन
क्या क्या कहती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

इंतज़ार तो उनका
मैंने रोज़ किया
कभी आ जाती
कभी वो न आती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

मुस्कुरा के वो बस
आगे बढ़ जाते
मुझे छीन के मुझसे
वो ले जाती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

उस एक हंसी से
मैं जी जाता
उस एक हंसी पे
जान निकल जाती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

मेरा हर एक दिन
इंतज़ार में डूबा
और याद में उनकी
हर रैना बीती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

उन्हें पता न होगा
कोई कितना चाहे
उन्हें मांग मांग कर
हर दुआ बीती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

पर साथ ग़ैर के
वो चले गए
राह तकती मेरी
घड़ियाँ बीती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

ये इनाम इश्क़ का
महबूब न मिलता
इस ख़ज़ाने से बस
यादें मिलती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

इससे अच्छा तो
वो न मिलते
ये दर्द न होता
ये तड़प न मिलती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

उन आँखों को मैं
कैसे भूलूँ
जिन आँखों में सारी
दुनिया बसती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

अब याद मुझे जब
वो आ जाते हैं
आँखें पहले सी
गीली होती
कोई क्या जाने
कैसे बीती..
कोई क्या जाने
कि क्या बीती..

-मंजुसुत ईशांश

नैना ना मिले..

तोसे कभी भी कुछ
कहे नहीं हैं,
मेरे नैना तेरे नैनों से
कभी मिले नहीं हैं..

कितनी दफा ये नज़रें
तेरी नज़रों से मिलने गईं,
हर दफा बस तेरा
चेहरा ही छूकर आईं,
दिल की प्यास बढ़ाते हैं
कभी बुझाते नहीं हैं..
मेरे नैना तेरे नैनों से
कभी मिले नहीं हैं..

अजब ही इनकी हालत है,
तेरे चेहरे की
न जाने इनको क्या आदत है,
तू सामने हो न हो,
तेरा चेहरा एक पल कभी
भुलाते नहीं हैं..
मेरे नैना तेरे नैनों से
कभी मिले नहीं हैं..

तेरी कोई ख़ता नहीं
कि गुस्ताख़ तो यहीं है,
जब कभी तेरी नज़रें
मेरी तरफ बढ़ें,
ये फिर जाते हैं,
ये झुक जाते हैं,
खुद ही दिल की बात तुझे
कभी बताते नहीं हैं..
मेरे नैना तेरे नैनों से
कभी मिले नहीं हैं..

ये पागल कैसे डरते हैं,
कि आखों से आँखें
जो मिल गईं,
दिल की बात दिल तक
जो पहुँच गई,
खुदा जाने क्या होगा,
खुदा जाने क्या न होगा,
इस कश्मकश में
मेरे दिल की बात आगे
कभी बढ़ाते नहीं हैं..
मेरे नैना तेरे नैनों से
कभी मिले नहीं हैं..

तोसे कभी भी कुछ
कहे नहीं हैं,
मेरे नैना तेरे नैनों से
कभी मिले नहीं हैं..

-मंजुसुत इशांश

“चल ख़्वाब में चाँद पे मिलते हैं”

चल ख़्वाब में चाँद पे मिलते हैं,
धरती पे कोई जगह नहीं,,
हमें देख यहाँ सब जलते हैं,
की हमने ऐसी खता नहीं ||

तू प्यार की चादर ले आना,
मैं दिल का बिछौना लाऊंगा,,
मुझे देख के तू शरमायेगी,
तुझे देख के मैं मुस्काउंगा,,
चल निंदिया की डोली में चलते हैं,
लगती उसमें कोई टिकट नहीं |
चल ख़्वाब में चाँद पे मिलते हैं,
धरती पे कोई जगह नहीं ||

फूलों की बगिया न मिले सही,
तारों का गुलदस्ता लाऊंगा,,
नदिया की धारा न बहे सही,
प्रेम रस से तुझे भिगाउंगा,,
चल मन के पंखों से उड़ते हैं,
हमें रोकेगी कोई डगर नहीं,,
चल ख़्वाब में चाँद पे मिलते हैं,
धरती पे कोई जगह नहीं ||

देखेगी न कोई और नज़र,
न होगी इस जग की कोई फ़िकर,,
बस हाथों में होगा हाथ तेरा,
और तेरी नज़र पे मेरी नज़र,,
संग कुछ पल सुकून से बैठेंगे,
वहां डरने की कोई वजह नहीं,,
चल ख़्वाब में चाँद पे मिलते हैं,
धरती पे कोई जगह नहीं ||

वहां तारों के मेले देखेंगे,
कुछ खेल बचपन के खेलेंगे,,
चखने को चाहे कुछ न हो,
पर प्यार से मन हम भर लेंगे,,
चल जल्दी हम तुम सो जाते हैं,
करते अब कुछ भी देर नहीं,
चल ख़्वाब में चाँद पे मिलते हैं,
धरती पे कोई जगह नहीं,,
हमें देख यहाँ सब जलते हैं,
की हमने ऐसी खता नहीं ||