“पृकृति”

ज़रा देखो अपने आस पास
हर ज़र्रा कुछ बतलाता है
पृकृति का कण कण
कुछ न कुछ हमें सिखाता है ||

हवा सिखाती है चलना
ये नदी सिखाती बहना |
सूरज कहे जगमगाओ तुम
और चंदा शीतल रहना||
एक छोटा सा जुगनू भी अंधियारे पथ को उजलाता है ||
पृकृति का कण कण
कुछ न कुछ हमें सिखाता है ||

किसी भी सूरत में डिगें नहीं
ये पर्वत हमें बताता है |
मन को विशाल बना लें हम
सिंधु ये बोल सुनाता है ||
पर-उपकार में जियें सदा
हर वृक्ष ये गाथा गाता है ||
पृकृति का कण कण
कुछ न कुछ हमें सिखाता है ||

किस दिशा हमें जाना है
ये तारे राह दिखाते हैं |
झुलसाती कभी जो गर्मी हो
तो बादल हमें बचाते हैं ||
न जाने कौन है वो पंछी
जो हर सुबह मुझे जगाता है
और यही एहसास दिलाता है कि
पृकृति का कण कण
कुछ न कुछ हमें सिखाता है ||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s